A song by a villager in protest against companies destroying his livelihood

FacebookStumbleUponGoogle+TwitterEmail

Kripanath yadav from Amelia, Singrauli sings a song to explain the situation in his village which faces displacement because of coal mining. Listen in. You can reach him via mobile- 9753939429

“एस्सार व हिंडाल्को अभिमानी तोड़ो”

भाई बचा लो जंगल का पानी तभी बच पायेगी जिन्दगानी,
तोड़ो एस्सार व हिंडाल्को का सब मिल कर अभिमानी तोड़ो,
एस्सार व हिंडाल्को का सब मिल कर अभिमानी तोड़ो,
इस जंगल से महुआ मिलता सब लोगो को ध्यान रहे,
इस जंगल से लकड़ी मिलती जिससे सारा काम रहे,
इस जंगल से हवा मिलता जो जीवन कल्याण करे,
इस जंगल से मिलती औषधि जो रोगों का नाश करे,
इस जंगल से मिलती औषधि जो रोगों का नाश करे,
इस जंगल को ख़तम करत है शाशन और कंपनी छोरो,
तोड़ो एस्सार व हिंडाल्को का सब मिल कर अभिमानी तोड़ो,
एस्सार व हिंडाल्को का सब मिल कर अभिमानी तोड़ो,
२०१३, ६  मार्च को बुधवार का दिन रहा,
ग्राम अमेलिया में जिला कलक्टर ने बुलवाया ग्राम सभा,
ग्राम सभा में लोगो की संख्या १८४ रही,
तहसीलदार माड़ा के गुप्ता ने समय के अनुकूल बंद किये,
१८४ को छलपूर्वक ११२५ किये,
ग्राम सभा की नक़ल लेने में हुई बड़ी परेशानी छोड़ो,
तोड़ो एस्सार व हिंडाल्को का सब मिल कर अभिमानी तोड़ो,
एस्सार व हिंडाल्को का सब मिल कर अभिमानी,
ग्राम सभा का कॉपी ले कर महान संघर्ष के लोग चले,
१९ जुलाई को नईदिल्ली में केंद्रीय मंत्री देव मिले,
मीडिया और पत्रकार के सामने मंत्री ने ज्ञापन लिए,
सब सभा के बीच में मंत्री ने लोगों को सम्बोध किये,
होगी सुनवाई अत्याचारों की,
मिटेगी सब परेशानी
तोड़ो एस्सार व हिंडाल्को का सब मिल कर अभिमानी तोड़ो,
एस्सार व हिंडाल्को का सब मिल कर अभिमानी तोड़ो,

Leave a Reply

5 + = seven