जल जंगल जमीन और हम|

FacebookStumbleUponGoogle+TwitterEmail

V.K.Verma from Girdih, Jharkhand is reciting a self-composed poem and trying to tell us the importance of  Jal Jangal Jameen and environment.

To know more, contact V.K. Verma – 9006982121

पानी का महत्व पता चलता है हमें सूखे से,
भोजन का महत्व पता चलता है हमें भूखे से,
जंगल का महत्व भी पता चलता है हमें,
बिगड़ते प्राकृतिक संतुलन से,
यानि की प्राकृतिक आपदयों से,
जमीन के महत्व का भी पता चल रहा है हमें,
देश की बढती जनसँख्या से,
पर फिर भी हम क्यों इसके महत्व जानने में लगे है,
इन समस्याओं के समाधान के लियें क्यों नहीं सोचते हैं हम,
क्यों नहीं सोचते है हम इनके निराकरण और निवारण के बारे में,
क्यों नहीं समझना चाहते इन कारणों को,
क्यों नहीं जाना चाहते इन समस्याओं के जड़ तक,
क्यों नहीं क्यों नहीं,
आखिर कब तक बचेगें अपनी जिम्मेदारियों से,
आखिर कब तक भागेंगे अपने आप से,
आइये सब एक साथ मिल कर,
इन समस्याओं के समाधान के बारे में सोचे और पहल करें,
जल जंगल जमीन के साथ अपनी रक्षा,
और अपने परिवार के साथ साथ देश और आने वाली नयी पीढ़ी की रक्षा करें|

Leave a Reply

7 − = six